How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi

How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi शरीर संतुलन की उन्नत अवस्था को दर्शाता है। मयूरासन को मोर पक्षी से प्रेरणा लेकर बनाया गया है। इंग्लिश में इस आसन को Peacock Pose के नाम से भी जाना जाता है।  मोर को प्रेम और अमरता का प्रतीक माना जाता है। मयूरासन का अभ्यास करते समय व्यक्ति की मुद्रा मोर की तरह दिखाई देती है। ये आसन करने में काफी जटिल दिखाई देता है ,परंतु नियमित अभ्यास कर के मयूरासन में प्रवीणता हासिल की जा सकती है। आइये जानते है How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi और उसके लाभों के बारे में। इस आसन में शरीर को दोनों हथेलियों पर संतुलित किया जाता है। 




How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi Step By Step Guide


How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi Step By Step Guide
Mayurasana Yoga ( Peacock Pose )




  • Mayurasana Steps

  1.  Mayurasana करने के लिए किसी स्वच्छ और हवादार जगह का चुनाव करे। 
  2. सर्वप्रथम जमीन पर चटाई बिछाकर बैठ जाए। 
  3.  अपने घुटनों के बल बैठकर ,हाथों को जमीन पर रखे। 
  4.  अब हाथों की कोहनियों को नाभि पर लगाकर ,हाथों को जमीन से सटाकर रखे। 
  5.  अपने हथेलियों के सहारे ,घुटनो को सीधा कर ,शरीर का भार हथेलियों पर दे। 
  6. शरीर को इसी अवस्था में संतुलित बनाये रखे।
  7.  ये आसन थोड़ा मुश्किल है ,इसलिए सावधानी से ही इस आसन का अभ्यास करे।  
  8. नियमित अभ्यास से ये आसन जल्दी ही संतुलित हो जाता है। 
  9. सर्वप्रथम जब भी आप इसे करे तो संतुलन आने तक किसी गद्दे पर या नरम स्थान पर ही इसे करे। 
  10. संतुलन आ जाने पर आप इसे आसानी से जमीन पर कर पाएंगे। मयूरासन के अभ्यास के बाद आप बालासन का अभ्यास कर सकते है। { पढ़े - Balasana Yoga In Hindi }






Mayurasana Yoga के फायदे - Benefits Of Mayurasana Yoga In Hindi


  1.  Mayurasana के नियमित अभ्यास से हाथ ,कंधे और पैरों की मासपेशिया मजबूत बनती है। 
  2. रोजाना मयूरासन करने से अपच ,मंदाग्नि , गैस ,वात विकार दूर होकर पेट साफ़ होता है। 
  3. साथ ही मयूरासन रोगप्रतिरोधक क्षमता का विकास कर ,भूक को बढाता है। 
  4. ये आसन नेत्रों की ज्योति बढ़ाकर, आँखे तेज और चमकदार बनाता है। 
  5. मधुमेह ,थॉयरॉइड जैसी समस्याओं से पीड़ित लोगों को मयूरासन का लाभ अवश्य लेना चाहिए। 
  6. नियमित मयूरासन का अभ्यास चेहरे पर आये दाग धब्बों को दूर कर चेहरे की सुंदरता को बढ़ाता है । 
  7. इस आसन को नियमित करने से चेहरे पर लाली आ जाती है ,जिससे चेहरा चमकदार दीखता है। 
  8. Mayurasana  का नियमित अभ्यास करने वाले साधक की स्मरणशक्ति असामान्य होती है। 
  9. इसे करने से बुद्धि कुशाग्र बनती है। 
  10. Mayurasana मन को शांत एवं स्थिर बनाता है।  
  11. महिलाये इस आसन का लाभ जरूर ले ,इससे महिलाओं के समस्त रोगों का निवारण हो जाता है। 
  12. ये सभी Benefits Of Mayurasana है जो मयूरासन के नियमित अभ्यास से प्राप्त हो सकते है। 






Precautions Of Mayurasana While Practicing Peacock Pose 

  1. Mayursana का अभ्यास सुबह सूर्योदय के समय खाली पेट करना उपयुक्त है। 
  2. शाम के समय मयूरासन का अभ्यास करते समय इस बात का ध्यान रखे की भोजन और अभ्यास के बिच कम से कम ६ से ७ घंटे का अंतर् हो। 
  3. जिन्हे कंधे ,कमर और छाती की शिकायत है उन्हें Mayurasana का अभ्यास नहीं करना चाहिए। 
  4. जो महिलाये गर्भवती है उन्हें भी इस आसन का अभ्यास नहीं करना चाहिए। 
  5. साथ ही ह्रदय रोग ,उच्च रक्तचाप ,हर्निया जैसी बीमारियों से ग्रसित होनेपर भी इस आसन का अभ्यास ना करे। 


आशा है आपको "How To Do Mayurasana Yoga ( Peacock Pose ) In Hindi" के बारे में उपयुक्त जानकारी मिल गयी होगी। अगर कोई सवाल हो तो आप कमेंट कर के पूछ सकते है। 


Previous
Next Post »